रायपुर, लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू ने बताया कि छत्तीसगढ़ सड़क विकास निगम द्वारा प्रदेश में 2636 करोड़ रूपए की लागत के 767 किलोमीटर लम्बाई की 26 सड़कों का निर्माण किया जा रहा है। इनमें से अब तक 615 किलोमीटर की 11 सड़कों का निर्माण पूर्ण हो चुका है। शेष 15 सड़के दिसम्बर 2020 तक पूर्ण हो जाएंगे।

छत्तीसगढ़ रोड डेव्हलपमेंट कार्पाेरेशन द्वारा पूर्ण किए जा चुके सड़कों में दुर्ग-धमधा-बेमेतरा 33.14 किलोमीटर, डोंगरगढ़-चिचोला 15.36 किलोमीटर, चैकी-चिल्हाटी-कोरचाटोला से महाराष्ट्र सीमा तक 22.21 किलोमीटर, चिचोला-छुरिया-कल्लू बंजारी से महाराष्ट्र सीमा तक 25.01 किलोमीटर, चिखली-पदुमतरा 15.89 किलोमीटर, ढ़ारा-ढेलकाडीह 19.44 किलोमीटर, सकरी गनियारी कोटा 21.79 किलोमीटर, जी.ई रोड से इंदामारा सुकुलदैहान ठेलकाडीह 20.02 किलोमीटर, घरघोड़ा लैलूंगा 22.69 किलोमीटर शामिल है।

दिसम्बर 2020 तक पूर्ण होने वाले सड़कों में रायपुर रेल्वे स्टेशन तेलीबांधा से केन्द्री के मध्य छोटी रेल लाईन के स्थान पर एक्सप्रेस-वे तथा फ्लाई ओवर का निर्माण 12.32 किलोमीटर, अंबिकापुर रिंग रोड 10.80 किलोमीटर, अंबिकापुर केरता जगन्नाथपुर प्रतापपुर 40.50 किलोमीटर, जांजगीर पामगढ़ 21.40 किलोमीटर, विश्रामपुर दतिमा 10 किलोमीटर, सीपत बलौदा उरगा मार्ग 41.26 किलोमीटर, बिरकोना पिपरिया मरका चुचरूंगपुर दाढ़ी उमरिया 30.27 किलोमीटर, पामगढ़ भिलोनी ससहा सोनसरी जोन्धरा लाहोद 31 किलोमीटर, सेलूद जांमगांव रानीतरई पाटन 40.52 किलोमीटर, कवर्धा रामपुर खम्हरिया 28.07 किलोमीटर, बरमकेला सोहेला 31.94 किलोमीटर, कारेसरा खम्हरिया सिल्हाटी 39.23 किलोमीटर, पसान पिपरिया कोडगार दूल्लापुर मोड 32.32 किलोमीटर, उरगा हाटी 46.70 किलोमीटर, तारा प्रेमनगर रामानुजनगर 50.24 किलोमीटर, लोहारा रेंगाडबरी जूनापानी चैकी 41.98 किलोमीटर और चिल्फी रेंगाखार साल्हेवारा मार्ग 60.80 किलोमीटर शामिल है।

बाहरी राज्यों में फंसे मजदूरों को छग सरकार ने दी राहत

छत्तीसगढ़ के एक लाख 8 हजार 315 प्रवासी श्रमिक जो देश के 21 राज्यों और 4 केन्द्र शासित प्रदेशों में होने की सूचना मिली है, उनके द्वारा बताई गई समस्याओं का त्वरित निदान करते हुए उनके लिए भोजन, राशन, नगद, नियोजकों से वेतन तथा रहने एवं चिकित्सा आदि की व्यवस्था उपलब्ध कराई गई है। इसके साथ ही श्रम विभाग के अधिकारियों का दल गठित कर विभिन्न औद्योगिक संस्थाओं, नियोजकों एवं प्रबंधकों से समन्वय कर (राशन एवं नगद) आदि की व्यवस्था भी की जा रही है। इनमें एक हजार 993 श्रमिकों को 3 करोड़ 28 लाख 9 हजार 997 रूपए बकाया वेतन का भुगतान कराया वहीं विभिन्न औद्योगिक संस्थानों-कारखानों के श्रमिकों से प्राप्त शिकायतों पर त्वरित कार्यवाही करते हुए परीक्षण पश्चात 1065 श्रमिकों को एक करोड़ 25 लाख 20 हजार 835 रूपए का भी बकाया वेतन भुगतान कराया गया है।

National Chhattisgarh  Madhyapradesh  से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें

Facebook पर Like करें, Twitter पर Follow करें  और Youtube  पर हमें subscribe करें।