Lockdown: कोरोना वायरस से 787 मौतें, पर बच गईं 12 हजार लोगों की जिंदगी !

नईदिल्ली, (FourthEyeNews)  देश में लॉकडाउन (Lockdown) को एक महीने से ज्यादा का वक्त बीत गया है, हर कोई अपने घरों में दुबक कर बैठा है, मानसिक और आर्थिक रूप से परेशान भी है, लेकिन अपनी जिंदगी बचाने के लिए इस लॉकडाउन (Lockdown) का पालन भी कर रहा है.

इस लॉकडाउन (Lockdown) में जनजीवन भले पूरी तरह ठप हो, लेकिन इसका एक दूसरा बहुत बड़ा फायदा हुआ, जी हां इस लॉकडाउन (Lockdown) के चलते दुर्घटनाओं में बहुत बड़ी कमी आई है, जिसके चलते 12 हजार से ज्यादा लोगों की जान बच गई ।

सेव लाइफ फाउंडेशन के आंकड़े

सड़क परिवहन मंत्रालय की माने तो देशभर में हर दिन औसतन 415 और हर महीने 12,450 लोगों की मौत होती है । वहीं सेव लाइफ फाउंडेशन के अनुसार इस लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान सौ के करीब लोगों की सड़क हादसों में मौत हुई है। लेकिन लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान सड़कों पर सिर्फ जरूरी समान ढो रहे वाहन ही चल रहे हैं

सेव लाइफ फाउंडेशन के अनुसार एक माह में देशभर में हुए सड़क हादसों में 117 लोगों की मौत हुई है, यानी एक महीने में 1% से ज्यादा लोगों ने जान गंवाई है। यह आंकड़ा और भी कम होता, लेकिन कुछ राज्यों में लॉकडाउन की शुरुआत में घर लौट रहे प्रवासी मजदूर वाहनों की चपेट में आए थे।

फाउंडेशन के सीईओ पीयूष तिवारी के मुताबिक हादसों की पुलिस रिपोर्ट दर्ज है.  उन्हीं को शामिल किया गया है। इस दौरान हादसों का कारण सड़कें खाली होना है। जरूरी सामान ढो रहे वाहनों के चालक स्पीड से गाड़ी चलाते हैं, जिससे असंतुलित होकर वाहन टकरा रहे हैं।

सेव फाउंडेशन के अंकड़े कुछ इस तरह हैं.

राज्य हर महीने होने वाली मौते लॉकडाउन में मौत
उत्तरप्रदेश 1830     6
महाराष्ट्र 1080     2
मध्यप्रदेश 870     7
राजस्थान 840     3
गुजरात 660     5
हरियाणा 420    10
पंजाब 390     43

 

कोरोना वायरस के देश में 25 हजार से ज्यादा मामले

आपको बता दें कि खबर लिखे जाने तक देश में कोरोना वायरस के मामले 25 हजार तक पहुंच गए हैं, जिनमें से 787 लोगों की मौत हो गई तो वहीं 5,655 मरीज ठीक भी हुए हैं.

National Chhattisgarh  Madhyapradesh  से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें

Facebook पर Like करें, Twitter पर Follow करें  और Youtube  पर हमें subscribe करें।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *