मजदूरी दर प्रतिदिन 190 रूपए होने से श्रमिकों के चेहरे पर आई रौनक : रोजगार गारंटी योजना

धमतरी ,(Fourth Eye News) विश्वव्यापी नोवल कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए लॉकडाउन के मद्देनजर जिले में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत चल कार्यों में दो सप्ताह के भीतर 50 हजार श्रमिकों की बढ़ोत्तरी हुई है। साथ ही प्रत्येक जॉब कार्डधारी परिवार के एक व्यक्ति को 01 अप्रैल 2020 से 190 रूपये प्रतिदिन के हिसाब से 30 दिन का काम मिलने पर मजदूर के खाता में 5700 रूपये की राशि जमा हो जाने से श्रमिकों के चेहरे पर रौनक आई है। कलेक्टर रजत बंसल के मार्गदर्शन एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत नम्रता गांधी के निर्देश पर जिले में मनरेगा के तहत मांग आधारित कार्य डबरी निर्माण, तालाब गहरीकरण, गौठान निर्माण, आंगनबाड़ी निर्माण, नरवा इत्यादि कार्य शुरू कर ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदाय किया जा रहा है।

राज्य-स्तरीय कोरोना नियंत्रण कक्ष बना नागरिकों का मददगार

एक ओर जहां मजदूर अपने काम के प्रति उत्साहित होकर कार्य कर रहे है, वहीं दूसरी ओर 190 रूपये प्रति दिवस मजदूरी मिलने पर काफी खुश और निश्चिंत हैं। शासन के निर्देश अनुसार मजदूरों को आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिए जल संग्रहण एवं कनवर्जेंस जैसे कार्यों को प्राथमिकता के साथ करने जिले के 370 ग्राम पंचायतों में से 337 पंचायत में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के कार्य शुरू किये गये हैं तथा शेष पंचायतों में कार्य शुरू करने के निर्देश दिये गए हैं। वित्तीय वर्ष 2020-21 के कार्यों में आज की स्थिति में 1147 कार्य शुरू किये गये हैं। इनमें डबरी, तालाब गहरीकरण, गौठान, नरवा, आंगनबाड़ी, वृक्षारोपण, भूमिसुधार, मिट्टी सड़क निर्माण के कार्य शामिल हैं। इन कार्यों में 50 हजार 195 श्रमिक नियोजित हैं। सभी मजदूर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने सहित सुरक्षा की दृष्टि से फेस मास्क अथवा गमछे का इस्तेमाल, स्वच्छता के लिए हैण्डवॉश अथवा साबून से धुलाई करते हुए कार्य कर रहे हैं।

कोरोना मुक्त प्रदेश बनने की ओर छत्तीसगढ़, सीएम ने ट्वीट कर कहा दो और हुए ठीक

जिले के नगरी विकासखंड के ग्राम पंचायत बेधवापथरा, सिंगारपुर, घोटगांव, धमतरी विकासखंड के डुबान क्षेत्र ग्राम उरपुटी, बरबांधा, कलारबाहरा, अरौद डुबान, सिलतरा, पहरियाकोन्हा, खम्मेश्री, पटेलगुड़ा, पटौद, हरफर, मारदापोटी गांव में सरपंच, सचिव, रोजगार सहायक एवं ग्रामीणों की बैठक लेकर डबरी, तालाब, मिट्टी सड़क निर्माण कार्य को प्राथमिकता प्रारंभ किया गया। मिट्टी सड़क निर्माण होने से आवागमन के साधन में विस्तार हुई है।

मुख्य कार्यपालन अधिकारी नम्रता गांधी ने बताया कि मनरेगा के तहत सभी कार्यों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इसमें लगे अधिकारियों द्वारा प्रतिदिन पंचायतों के सरपंच, सचिव, रोजगार सहायक से संपर्क कर मनरेगा कामों का जायजा लिया जा रहा है। इसी तरह मगरलोड विकासखंड के ग्राम पंचायत मोहेरा के निरई तालाब गहरीकरण में कोरोना महामारी के चलते सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए तालाब गहरीकरण किया जा रहा है। इसमें मजदूर तीन फीट की दूरी में रहकर अलग-अलग काम कर रहे हैं। साथ ही साबुन से हाथ धोना, गमछा कार्य किया जा रहा है। यहां बीआरएलएफ की टीम पूरी तरह मजदूरों का सहयोग कर रही है, वहीं ग्राम पंचायत के रोजगार सहायक एवं मेट भी महत्ती भूमिका निभा रहे हैं।

National Chhattisgarh  Madhyapradesh  से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें

Facebook पर Like करें, Twitter पर Follow करें  और Youtube  पर हमें subscribe करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *