अब बच्चे घर बैठे कर सकेंगे पढ़ाई : छ.ग. शासन ने जारी किया ऑनलाईन पोर्टल पढ़ई तुंहर दुआर

नारायणपुर.(Fourth Eye News) कोरोना वायरस के विश्वव्यापी महामारी फैलने से रोकने के कारण लॉकडाउन होने से स्कूलों को बंद कर दिया गया हैं, जिसकी वजह से बच्चों के पढ़ाई पर बहुत ज्यादा असर पड़ा है एवं बच्चों को पढ़ाई का बहुत नुकसान उठाना पड़ रहा है। इस बात को ध्यान में रखते हुए शिक्षा विभाग छत्तीसगढ़ शासन के द्वारा ऑनलाइन अध्यापन एवं अध्ययन करने का बड़ा निर्णय लिया गया है। जिसे राज्य शासन ने पढ़ई तुंहर दुआर का नाम दिया है। उपरोक्त ऑनलाइन पोर्टल cgschool.in (सीजीस्कूलडॉटइन) पर शिक्षक, पालक एवं विद्यार्थी अपना ऑनलाईन पंजीयन कर पढ़ाई कर एवं करवा सकते हैं।

कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम प्रबंधन में छत्तीसगढ़ टॉप-10 में शामिल

कलेक्टर पी.एस.एल्मा ने बताया कि स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा स्कूली बच्चों को ऑनलाइन पोर्टल cgschool.in (सीजीस्कूलडॉटइन) के जरिए पढ़ाई की व्यवस्था की गई है, ताकि बच्चे घर में रहकर अध्ययन कार्य कर सकें। वर्तमान में पोर्टल में कक्षा 1 से 10 तक का स्टडी मैटेरियल उपलब्ध है। इस पोर्टल में स्टडी का लाभ लेने के लिए विद्यार्थियों को पोर्टल में लॉगिन होना पड़ेगा। पोर्टल में शिक्षक एवं विद्यार्थी रजिस्टर्ड का ऑप्शन है, जिसमें उन्हें विद्यार्थी के रूप में रजिस्टर्ड होना पड़ेगा। रजिस्टर्ड होने के लिए सामान्य जानकारी मोबाइल नंबर कक्षा ईमेल एड्रेस एवं स्वयं के नाम की आवश्यकता होगी। पासवर्ड कम से कम 8 अंक अक्षर व विशेष चिन्ह के उपयोग करते हुए बनाना है, अक्षर में एक बोल्ड व एक स्माल लेटर अवश्य होंगे। मोबाइल नंबर आईडी होगा व पासवर्ड बनाना होगा के साथ लॉगिन होंगे। लॉगिन होने के पश्चात पोर्टल में आपको अपनी अध्ययन की कक्षा एवं विषय का चयन करना होगा।

कोरोना से अप्रैल के अंत तक राहत मिलने की उम्मीद, तीन फेज की योजना पर काम

पोर्टल में ऑनलाईन एवं ऑफलाईन स्टडी मैटेरियल दोनों प्रकार की अध्ययन की सुविधा दी गई है। विद्यार्थी अगर ऑफलाइन स्टडी करना चाहे तो वह सीधे स्टडी मैटेरियल को सेलेक्ट कर अपने विषय का अध्ययन कर सकता है, किंतु अगर विद्यार्थी ऑनलाइन स्टडी करना चाहे तो उसे पोर्टल में अध्ययन करने हेतु जूम ऐप डाउनलोड करना होगा। जूम ऐप के माध्यम से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से ऑनलाइन स्टडी कर सकते है। जिसके लिए अध्ययन हेतु निर्धारित तिथि को शिक्षकों के द्वारा अध्यापन कराया जाएगा, जिसमें विद्यार्थी स्वयं जूम एप के माध्यम से ऑनलाइन रहकर क्लास में अपने अध्यापन करने वाले शिक्षक से प्रश्न का उत्तर प्राप्त कर सकते हैं। जिसमें बच्चों को होमवर्क भी दिया जाएगा जिसका घर में बैठे छात्र करेंगे एवं उसे मोबाइल के माध्यम से अपलोड भी करेंगे।

कलेक्टर पी.एस.एल्मा के निर्देशानुसार जिला शिक्षा अधिकारी ने उक्त ऑनलाईन पोर्टल का प्रचार-प्रसार एवं क्रियान्वयन करने खण्ड शिक्षा अधिकारी, खण्ड स्त्रोत समन्वयक, संकुल समन्वयक, समस्त प्रधानपाठक एवं प्रधानाचार्य को पत्र जारी कर निर्देश दिये हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *