मंत्री भेंड़िया ने राजधानी में वृद्धाश्रम, बहुविकलांग गृह और राहत शिविर का किया निरीक्षण

रायपुर,(Fourth Eye News) महिला बाल विकास और समाज कल्याण मंत्री अनिला भेंड़िया बुजुर्गों, दिव्यांगजन सहित समाज के वंचित और जरूरतमंद लोगों तक राहत और कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए की जा रही व्यवस्थाओं का लगातार निरीक्षण कर रही हैं। इसी क्रम में बालोद और दुर्ग जिले के बाद आज  भेंड़िया राजधानी के माना कैम्प स्थित समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित शासकीय वृद्धाश्रम, बहदिव्यांग गृह, पुनर्वास केन्द्र, महिला एवं बाल विकास द्वारा संचालित बालाश्रम और लॉकडाउन में फंसे लोगों के लिए बनाए गए लाभाण्डी स्थित राहत कैम्प का जायजा लेने पहुंची।

रायपुर : कटघोरा के हर व्यक्ति का टेस्ट होगा : कटघोरा को पूर्णत सीलबंद करे जारी किए निर्देश

भेंड़िया ने वृद्धाश्रम में बुजुर्गों का हाल-चाल पूछा और उनके स्वास्थ्य, खान-पान और दिनचर्या की जानकारी ली। उन्होंने बुजुर्गों के कोरोना संक्रमण से अधिक प्रभावित होने के जोखिम को देखते हुए अधिकारियों को बुजुर्गों के स्वास्थ्य और संक्रमण से सुरक्षा के संबंध में विशेष सतर्कता बरतने के दिये निर्देश दिये हैं। उल्लेखनीय है कि इस आश्रम में राज्य के 26 बुजुर्ग निवास कर रहे हैं।

भेंड़िया से बुजुर्गों ने वृद्धाश्रम की व्यवस्था के बारे में संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि यहां खाने और रहने की अच्छी व्यवस्था है। यहां उन्हें कोरोना वायरस के संक्रमण और उससे बचाव के लिए आवश्यक सावधानी रखने कहा गया है। सभी बुजुर्गों को मास्क दिए गए है और लगातार हाथ धोने के लिए कहा गया है। आश्रम में समय-समय पर कीटनाशक का स्प्रे भी किया जाता है। भेंड़िया ने बुजुर्गों को कोरोना संक्रमण से भयभीत न होने की सलाह देते हुए आवश्यक सावधानी बरतने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि सर्दी-खांसी या बुखार की शिकायत होने पर अधिकारियों को तुरंत सूचित करें।

रायपुर : लाॅकडाउन में निजी स्कूलों द्वारा नही की जा सकेगी फीस की वसूली : जिला शिक्षा अधिकारियों को जारी हुए निर्देश

शासकीय बहुदिव्यांग गृह पहुंचकर भेंड़िया ने विशेष आवश्यकता वाले बच्चों से मुलाकत की और उन्हें कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के बारे में बताया। भेंड़िया ने लॉकडाउन के दौरान बच्चों को रचनात्मक गतिविधियों में लगाए रखने और संक्रमण से बचाव के मापदण्डों के पालन के निर्देश दिए हैं। इस केन्द्र में मानसिक के साथ-साथ बहुदिव्यांग एवं विशेष आवश्यकता वाले बच्चों के शिक्षण-प्रशिक्षण, आवास, भोजन, स्वास्थ्य जांच सहित शारीरिक एवं मानसिक विकास की निःशुल्क व्यवस्था है। भेंड़िया ने बालगृह पहुंचकर भी बच्चों के लिए की गई व्यवस्थाओं का जायजा लिया।

भेंड़िया राजधानी के लाभाण्डी में जिला प्रशासन द्वारा बनाए गए कोरोना राहत-आश्रय स्थल भी पहुंची और लॉकडाउन में फंसे जरूरतमंद और बेसहारा लोगों के लिए किये जा रहे प्रबंध की जानकारी ली। उन्होंने आश्रय स्थल पर रह रहे लोगों के लिए सभी आवश्यक प्रबंध करने के निर्देश अधिकारियों को दिये हैं। भेंड़िया ने कहा राहत शिविरों में दूसरे राज्यों के लोग हमारे मेहमान हैं,जिनकी हर संभव मदद की जाएगी। इस अवसर पर समाज कल्याण विभाग के सचिव आर. प्रसन्ना, संचालक पी दयानंद, सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *