महासमुंद के छात्रों ने 5 हजार में बनाया रोबोट, सांसद सरोज पांडे ने दी बधाई

रायपुर/ महासमुंद, (FourthEyeNews) छत्तीसगढ़ में इंजीनियरिंग के छात्रों की मेहनत रंग लाई है औऱ उन्होने दो महीने की मेहनत में महज पांच हजार की लागत से एक ऐसा रोबोट बना लिया जिसे इंटरनेट से संचालित किया जा सकता है.

कोरोना वायरस के संक्रमण के इस दौर में इस तरह के रोबोट्स का बहुत अहम रोल हो जाता है, क्योंकि मरीजों तक जरूरी सामग्री पहुंचाने की वजह से मेडिकल स्टाफ को हमेशा संक्रमण का खतरा बना रहता है, ऐसे में रोबोट का उपयोग इस तरह के कामों में किया जाए, तो जाहिर तौर पर कुछ  हद तक कोरोना के संक्रमण से बचा जा सकता है.

ये खबर भी पढें – कोरोना की मार: बैंक आपको 2 किश्तों की राहत देंगी, लेकिन 10 किश्त वसूलेंगी ?

भिलाई के रूंगटा कॉलेज में अध्ययनरत महासमुंद के इंजीनियरिंग छात्र योगेश साहू, प्रवीण वर्मा और रिषिकेश यादव ने यह रोबोट बनाया है । इस रोबोट को बनाने में मेटल शीट, पीवीसी पाइप और लकड़ी का उपयोग किया गया है ।  यह रोबोट किसी भी चीज को उठाकर एक जगह से दूसरी जगह ले जा सकता है। इसको मोबाइल फोन से भी कनेक्ट किया जा सकता है। इसे इंटरनेट से दुनिया में कहीं से भी कंट्रोल किया जा सकता है.

ये खबर भी पढ़ें – बड़ी राहत: कोरोना संक्रमण के केस बढ़े पर दर घटी

छात्रों ने इस रोबोट को दो महीने तक हर दिन दो-दो घंटे समय देकर करीब पांच हजार की लागत से तैयार किया है. छात्रों के मुताबिक ये इस रोबोट को यूनिवर्सिटी में दिखाएंगे। इन्होंने बताया कि सरकार से मदद मिली तो और बेहतर कर पाएंगे।

छात्रों की इस कामयाबी पर सांसद सरोज पांडे ने भी उन्हें बधाई दी है, सरोज पांडे ने लिखा है –

“अपनी बुद्धिमत्ता और कौशल क्षमता का प्रयोग करके मात्र 5000 रुपए लागत में इसका निर्माण करना भी अनूठा है।बच्चों का ये कहना कि “डॉक्टर लोगों को बचाने के लिए अपना जीवन खतरे में डाल रहे हैं उनके लिए कुछ करना चाहता था”।अच्छे संस्कारों के लिए मैं तीनो के माता और पिता को साधुवाद देती हूँ।”

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *